आईआईटी कानपुर की अत्याधुनिक रिसर्च ने कैंसर एवं अल्जाइमर के उपचार में जगाई नई आशा

0
231

संवाददता- रीति शर्मा

कानपुर, 5 जनवरी । भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (आईआईटीके) ने जी प्रोटीन-युग्मित रिसेप्टर्स (जीपीसीआर) और केमोकाइन रिसेप्टर डी6 के अध्ययन के साथ बायोमेडिकल अनुसंधान में एक सफलता हासिल की है, जिससे कैंसर और मस्तिष्क संबंधी विकार जैसे अल्जाइमर रोग, पार्किंसंस रोग और सिज़ोफ्रेनिया के संभावित उपचार पर नये विकल्प मिले हैं, शोधकर्ताओं ने रिसेप्टर्स के परमाणु विवरण की कल्पना की। इस प्रमुख प्रगति से मिली जानकारी रोग स्थितियों के तहत इन रिसेप्टर्स को नियंत्रित करने के लिए नई दवा जैसे अणुओं को डिजाइन करने की संभावना को खोलती है। इस ऐतिहासिक कार्य को प्रतिष्ठित अंतरराष्ट्रीय जर्नल, साइंस में प्रकाशित होने के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है।

आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर एस गणेश ने कहा, “यह अनूठा शोध लक्षित चिकित्सा में एक नए युग के द्वार खोलता है जो दुनिया भर में लाखों लोगों के लिए कैंसर और न्यूरोलॉजिकल स्थितियों का समाधान प्रदान कर सकता है। ये बीमारियाँ, जो अत्यधिक पीड़ा और आर्थिक बोझ का कारण बनती हैं, इन निष्कर्षों के आधार पर प्रभावी उपचार का एक नया युग विकसित हो सकता है! इस शोध परियोजना की सफलता दुनिया भर के वैज्ञानिकों के साथ हमारे सफल सहयोग का भी प्रमाण है। इस परियोजना में आईआईटी कानपुर की टीम ने जापान, कोरिया गणराज्य, स्पेन और स्विट्जरलैंड के शोधकर्ताओं के साथ काम किया। प्रोफेसर अरुण शुक्ला और टीम को हार्दिक बधाई, जो जीपीसीआर जीव विज्ञान में उत्कृष्ट शोध कर रहे हैं!”

अंतर्राष्ट्रीय शोधकर्ताओं को शामिल करने वाला यह सहयोगात्मक प्रयास न केवल जटिल बीमारियों की समझ को बढ़ाता है, बल्कि नवोन्मेषी जैव चिकित्सा अनुसंधान में अग्रणी के रूप में भारत की स्थिति को भी मजबूत करता है और कुछ सबसे गंभीर स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिए आईआईटी कानपुर की प्रतिबद्धता को उजागर करता है।

जी प्रोटीन-युग्मित रिसेप्टर्स (जीपीसीआर) मस्तिष्क कोशिकाओं की सतह पर छोटे एंटेना की तरह होते हैं जो उन्हें संचार करने में मदद करते हैं और मस्तिष्क के कई कार्यों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। जब ये रिसेप्टर्स ठीक से काम नहीं करते हैं, तो मस्तिष्क कोशिकाओं के बीच संचार में समस्याएं आती हैं, जिससे अल्जाइमर और पार्किंसंस जैसी बीमारियां होती हैं। इससे इन बीमारियों में लक्षण और प्रगति देखी जाती है। इसी तरह, केमोकाइन रिसेप्टर डी6 प्रतिरक्षा प्रणाली में कार्य करता है और सूजन की प्रतिक्रिया में शामिल होता है। कैंसर में, रिसेप्टर ट्यूमर के वातावरण को प्रभावित कर सकता है, जिससे कैंसर कोशिकाएं कैसे बढ़ती हैं और फैलती हैं, उसे प्रभावित करता है।

आईआईटी कानपुर के नए शोध के निष्कर्षों से इन रिसेप्टर्स के कामकाज को बेहतर ढंग से समझने में मदद मिलेगी और अल्जाइमर जैसी स्थितियों के लिए नए चिकित्सीय दृष्टिकोण और लक्षित उपचार का विकास होगा, जो दुनिया भर में 50 मिलियन से अधिक लोगों को प्रभावित करता है, और कैंसर से प्रतिवर्ष 10 मिलियन से अधिक मौतों के लिए जिम्मेदार है। इस शोध के नतीजे अब नई दवा जैसे अणुओं के विकास की सुविधा प्रदान करेंगे जिन्हें पशु मॉडल में उनकी चिकित्सीय क्षमता के लिए परीक्षण किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं ने रिसेप्टर्स की विस्तृत त्रि-आयामी छवियां बनाने के लिए क्रायोजेनिक-इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी (क्रायो-ईएम) नामक एक उच्च तकनीक विधि का उपयोग किया। इससे उन्हें आणविक स्तर पर रिसेप्टर्स की 3डी छवियों का विस्तार से अध्ययन करने की अनुमति मिली, जिससे रोग की स्थिति पैदा करने वाले इन रिसेप्टर्स के साथ समस्याओं को ठीक करने के लिए नए दवा जैसे अणुओं की पहचान करने और डिजाइन करने में मदद मिली।

जीपीसीआर जीव विज्ञान प्रयोगशाला, आईआईटी कानपुर की अनुसंधान टीम में प्रोफेसर अरुण के. शुक्ला, जैविक विज्ञान और बायोइंजीनियरिंग विभाग और प्रधान अन्वेषक जीपीसीआर लैब; डॉ. रामानुज बनर्जी, पोस्ट-डॉक्टरल फेलो; डॉ. मनीष यादव, पोस्ट-डॉक्टोरल फेलो; डॉ. आशुतोष रंजन, पोस्ट-डॉक्टोरल फेलो, वर्तमान में लखनऊ विश्वविद्यालय में फैकल्टी; जगन्नाथ महाराणा, पीएच.डी स्कॉलर अब पोस्ट-डॉक्टरल फेलो के रूप में मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट ऑफ मॉलिक्यूलर फिजियोलॉजी में जा रहे हैं; मधु चतुर्वेदी, पीएच.डी स्कॉलर अब पोस्ट-डॉक्टरल फेलो के रूप में यूसीएसएफ में जा रहे हैं; परिश्मिता सरमा, पीएच.डी. स्कॉलर; विनय सिंह, प्रोजेक्ट जेआरएफ, अब पीएचडी छात्र के रूप में सेल्युलर बायोफिज़िक्स, फ्रैंकफर्ट पर आईएमपीआरएस जा रहे हैं; सायनतन साहा, प्रोजेक्ट रिसर्च फेलो; और गार्गी महाजन, प्रोजेक्ट रिसर्च फेलो शामिल थे ।

वैश्विक सहयोग में दुनिया भर के शोधकर्ताओं ने इस शोध परियोजना की सफलता सुनिश्चित करने के लिए आईआईटी कानपुर के साथ हाथ मिलाया। शोध दल में टोक्यो, जापान से फुमिया सानो, वतरू शिहोया और ओसामु नुरेकी; बार्सिलोना, स्पेन से टोमाज़ स्टेपन्यूस्की और जाना सेलेंट; बेसल, स्विट्जरलैंड से मोहम्मद चामी; और कोरिया गणराज्य के सुवोन से लोंघन डुआन और का यंग चुंग शामिल थे । आईआईटी कानपुर में अनुसंधान कार्य को डीबीटी/वेलकम ट्रस्ट इंडिया एलायंस और विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड द्वारा समर्थित किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here