बसपा के अतहर खान भुटटो ने 300 समर्थकों के साथ सपा की सदस्यता की ग्रहण

0
58

कानपुर देहात, 05 मार्च। पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया की अगुवाई में 25 वर्षों से बसपा से जुड़े समाजसेवी अतहर खान भुटटो ने अपने 300 समर्थकों के साथ सपा की सदस्यता ग्रहण की और बताया कि पार्टी की नीतियों और उपलब्धियों को जन-जन पहुंचाकर पार्टी को मजबूत करने का कार्य करूंगा।
रसूलाबाद कस्बा निवासी अतहर खान भुट्टो बसपा में जिला प्रभारी रह चुके हैं। पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया लगातार उनसे सपा में जाने के लिए संपर्क कर रहे थे। अंततः अतहर खान भुट्टो ने पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया की अगुवाई में अपने 300 साथियों के साथ सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मौजूदगी में समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। बताते चलें कि सप्ताह भर पहले पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया की अखिलेश यादव से मुलाकात हुई थी। जिसके बाद दोनों में गिले शिकवे दूर हुए। इसके बाद लखनऊ पहुंचकर जहाँ पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया अपने सैकड़ो समर्थकों के साथ सपा में पुनः शामिल हुए। वहीं उनके साथ लखनऊ प्रदेश कार्यालय पहुंचे बसपा के पूर्व जिला प्रभारी अतहर खान भुट्टो व नगर पंचायत के रनर प्रत्याशी मेवालाल संखवार 300 समर्थकों के साथ सपा में शामिल हो गए। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि शिवकुमार बेरिया व अतहर खान भुट्टो के पार्टी से जुड़ जाने से कन्नौज लोकसभा क्षेत्र में सपा को मजबूती मिलेगी। उन्होंने संगठन को मजबूत करने व लोकसभा में सपा को जिताने के निर्देश दिए। वहीं पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया ने बताया कि मैं पुराना समाजवादी सिपाही हूं। सदैव समाजवाद के प्रति समर्पित रहा हूं। संगठन को मजबूत करने के साथ कन्नौज लोकसभा क्षेत्र के चुनाव में एक बार फिर सपा की जीत होगी। इस दौरान अतहर खान भुट्टो ने बताया कि अखिलेश यादव की नीतियों से प्रभावित होकर व पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया के आवाहन पर ही मैंने सपा को चुना है। पार्टी जो जिम्मेदारी देगी उसका निर्वहन करुंगा। रसूलाबाद नगर पंचायत क्षेत्र के साथ ही पूरी विधानसभा जिताने के लिए कड़ी मेहनत करूंगा। गौरतलब हो कि अतहर खान भुट्टो 25 वर्षों से बसपा से जुड़े थे। इसके चलते पिछड़ों व दलितों में उनकी अच्छी पकड़ बताई जाती रही है। पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया व अतहर खान भुट्टो के सपा में शामिल होने के बाद सियासी गलियारों में गहमा गहमी मची हुई है।

पिछड़ों के साथ दलितों में है भुटटो की पकड़

समाजवादी पार्टी अल्पसंख्यक और यादव वर्ग के अलावा पिछड़ों और अनुसूचित मतदाताओं को पार्टी में जोड़ने की कवायद तेज कर चुकी है। वहीं भुटटो के सपा में आ जाने से पिछड़ों व दलितों के वोटो में जरूर इजाफा होगा।

25 वर्षों बाद भुटटो ने छोड़ी बसपा

रसूलाबाद। भुट्टो बीते 25 वर्षों से बसपा से जुड़े हुए थे जब भगवती प्रसाद सागर बसपा में थे तब वे उनके साथ थे। इसके बाद लगातार कमलेश दिवाकर,निर्मला संखवार, पूनम संखवार व सीमा संखवार के साथ बसपा में रहे। पूर्व मंत्री बेरिया के आवाहन पर उन्होंने नया घर तलाश लिया।

नगर पंचायत के चुनाव में दिखाई थी ताकत

रसूलाबाद। भुटटो नगर पंचायत की सामान्य वर्ग की सीट पर अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ना चाहते थे लेकिन सीट अनुसूचित हो जाने के कारण वे चुनाव नहीं लड़ सके इसके लिए उन्होंने मेवालाल संखवार का समर्थन किया और पूरी ताकत से उनके साथ चुनाव में जुट गए। चुनाव में परिणाम में मेवालाल दूसरे स्थान पर आए। जिससे नगर के लोगों ने उनकी ताकत का एहसास जरूर किया।

मंच से कद्दावर नेता का हुआ सम्बोधन

रसूलाबाद। कार्यक्रम के दौरान भुटटो को कद्दावर नेता कहा गया। इसके साथ ही पूर्व कैबिनेट मंत्री शिवकुमार बेरिया के साथ अकेले में अखिलेश यादव ने गुफ्तगू की है। कन्नौज लोकसभा चुनाव को लेकर सपा अपने कुनबे को बढ़ाने में लगी हुई है।

बसपा को लगा तगड़ा झटका

रसूलाबाद। भुटटो के सपा में जाने से बसपा को एक बड़ा झटका लगा है। अभी तक तमाम लोग बसपा की राजनीति करने के बाद दूसरे दलों में गए और विधायक बन गए लेकिन भुटटो ने पार्टी को नहीं छोड़ा था। लोगों को भुटटो से उम्मीदें थी। जब से वे सपा में गए तो बसपा के लोग भी उनसे संपर्क करने लगे हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here