एक दिन सबरी का इंतजार हुआ था खत्म , अब हमारी बारी

0
219

प्रमुख संवाददाता

कानपुर, 12 जनवरी। आस्था के समुंद्र में डूबा भारत देश उस दिन के इंताजर में अपनी पलकों को इस कदर बिछाये बैठा है जैसे सदियों से प्रभु श्री राम का इंताजर करने वाली सबरी जिन्होंने अपनी उम्र के अंतिम दौर में प्रभु श्रीराम के दर्शन कर मोक्ष प्राप्त किया था। ऐसा ही इंतजार देश के लाखों कारसेवक और करोड़ों रामभक्त भी कर रहे हैं, जिन्होंने शुरुआत से लेकर आजतक प्रभु को उनके घर पर आसीन करने के लिये खुद को समर्पित कर दिया। उनका इंतजार खत्म हो रहा है और मात्र 09 दिन के बाद मर्यादा के शिरोमणि प्रभु श्री राम अयोध्या में आ रहे हैं। आखों में आशा के दीप जलाये कानपुर के सैंकड़ों कार सेवक उनके स्वागत में जनपद को इस कदर सजाने में लगे हैं मानो उस दिन दीपावली का पर्व हो। उस दिन का यह नजारा आखिर देखने योग्य भी होने वाला है। श्रीराम मंदिर आंदोलन में कानपुर के डीएवी कॉलेज के प्रोफेसर रहे डॉ देवी शरण शर्मा और अशोक सिंह दद्दा ने भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण पर अपने उन दिनों की स्मृतियां  को साझा किया।

देश और दुनिया 22 जनवरी के दिन का इंतजार कर रही है। सोशल मिडिया से लेकर गली और नुक्क्ड़ों में सिर्फ जय श्री राम के नारे और उनसे जुड़ी कहानियां ही सुनाई दे रही हैं। आस्था में सराबोर जहां पूरी दुनिया है तो वहीं उत्तर प्रदेश का कानपुर जनपद भी इससे अछूता नहीं है, हो भी क्यों न प्रभु श्री राम की स्मृतियाँ यहां से भी तो जुड़ी हैं। देश के कोने-कोने से प्रभु को उनके घर वापस लाने के लिये कार सेवकों की अलग-अलग कहानियां हैं। ऐसी ही एक कहानी कानपुर के कल्याणपुर में रहने वाले अशोक सिंह दद्दा भी बताते हैं कि कैसे उन्होंने सैकड़ों कार सेवकों के साथ समय-समय पर अपना योगदान राम मंदिर निर्माण में दिया है। उन्होंने बताया कि 1990 में वह डीएवी कॉलेज के प्रोफेसर रहे डॉ देवी शरण शर्मा की अगुवाई में जानकी प्रसाद शर्मा, देवी चरण बाजपेई, अरुणेश मिश्रा और पतंजलि शर्मा के साथ तत्कालीन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालकृष्ण आडवाणी के स्वागत में कानपुर सेंट्रल स्टेशन पहुंचे थे । जिसमे उनको छोड़कर लगभग सभी लोग गिरफ्तार हो गये थे। उस वक़्त लाल कृष्ण आडवाणी को राम मंदिर आंदोलन को मुख्य माना जाता था। जिसको लेकर उस वक़्त की सरकार ने राजधानी एक्सप्रेस के आने से पहले ही पूरा जाल स्टेशन पर बिछा चुकी थी। ख़ुफ़िया विभाग लगातार वहां की मॉनिटरिंग कर रहा था।

सरकार और शासन का पूरा प्रयास था भाजपाई और कार सेवक स्टेशन तक न पहुंच सकें। लेकिन डॉ देवी शरण शर्मा और अशोक सिंह दद्दा के साथ दो दर्जन से अधिक लोग स्टेशन पर पहुँच गये। पुलिस ने घेराबंदी कर उनको घेर लिया। वक़्त कुछ लोग मौका पाकर भूमिगत रास्ते से निकल गये थे। ट्रेन आई और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष वहां पहुँचे और उनका भव्य स्वागत किया गया था। यही नहीं जब-जब राम मंदिर निर्माण के लिये लड़ाई लड़ी गई वह हर बार उसमे शामिल होने के लिये पहुंच गये। आज जब राम मन्दिर बनकर तैयार हो गया है और उसमे प्रभु की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है तो उन सभी कर सेवकों की मेहनत सफल हो गई। उन्होंने बताया की 22 जनवरी को पुरे जनपद के दीपावली से बेहतर माहौल रहने वाला है पूरा जनपद दीपों की रोशनी से चमकने वाला है। मंदिरों में भजन होने और प्रसाद वितरण होगा। अशोक सिंह दद्दा ने कहा कि एक दिन जब माता सबरी का इंतजार खत्म हुआ था और प्रभु ने उनको दर्शन दिये थे तो आज पूरा विश्व उनके दर्शन के इंतजार में बैठा है आखिर इस दिन को हम कैसे भूल पाएंगे। इतिहास में यह दिन सुनहरे अक्षरों में लिखा जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here