सात साल में यूपी में केंद्रीय योजनाओं के लाभार्थियों की बढ़ी तादात

0
112

मुख्य संवाददाता

लखनऊ, 21 मार्च। विगत सात साल से उत्तर प्रदेश की कमान संभाल रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दूसरे कार्यकाल का दूसरा साल पूरा कर रहे हैं। बीते सात वर्षों में प्रदेश में हुए अभूतपूर्व कार्यों की बदौलत सीएम योगी की चर्चा पूरे देश में हो रही है। कानून व्यवस्था के सुदृढ़िकरण से लेकर इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट और कनेक्टिविटी ने प्रदेश में निवेश की राह को आसान किया तो यूपी प्रगति की राह पर तेजी से आगे बढ़ने लगा। इन सब के साथ ही योगी सरकार के दौरान केंद्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में भी तेजी आई। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना मिशन बनाते हुए एक एक योजनाओं की खुद मॉनीटरिंग की। विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं को जिस तेजी के साथ प्रदेश में धरातल पर उतारा गया, उसका लाभ करोड़ों लाभार्थियों को मिला।

किसानों को ‘सम्मान’, महिलाओं का जीवन हुआ ‘उज्ज्वल’

किसान, गरीब, महिला, कामगार और बुजुर्ग के साथ ही आवास, स्वच्छता से जुड़ी विभिन्न योजनाओं को प्रदेश में पूरी प्लानिंग के साथ क्रियान्वित किया गया। बात करें किसानों के लिए शुरू की गयी प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की तो देश में 11 करोड़ लाभार्थी इससे लाभान्वित हुए। वहीं यूपी में 2 करोड़ 62 लाख किसानों के बैंक खातों में 62998.69 करोड़ की धनराशि हस्तांतरित की गई। इसी प्रकार प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी और ग्रामीण) का लाभ देश में 3 करोड़ लोगों को मिला तो यूपी में भी इससे 55.83 लाख लोगों को उनके सपने का आशियाना मिल चुका है। महिलाओं को रसोई में धुएं से मुक्ति दिलाने के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना से देश की 10 करोड़ महिलाओं को लाभ मिला, इसमें भी प्रदेश में 1.75 करोड़ महिला लाभार्थियों को इस योजना का लाभ दिलाया गया।

खुले में शौच से मिली मुक्ति
इसी प्रकार स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत उत्तर प्रदेश में 2.52 करोड़ घरों में शौचालय का निर्माण कराया गया। यही नहीं केंद्र सरकार की एक और महात्वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री जनधन योजना के मामले में भी यूपी ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। राज्य के 8.56 करोड़ लोगों के जनधन खाते योगी राज में खुलवाए गये, जिनके माध्यम से विभिन्न योजनाओं की राशि सीधे लाभार्थियों के खाते में भेजी जा रही है। ऐसे ही सौभाग्य योजना से देश में जहां 2.86 करोड़ घरों को जोड़ा गया, वहीं अकेले यूपी में 1.58 करोड़ घरों को इस योजना से जोड़ा गया। प्रधानमंत्री जीवन ज्योति योजना से यूपी के 1.09 करोड़ लाभार्थियों को जोड़ने में योगी सरकार को सफलता मिली।

75 लाख से अधिक घरौनियां तैयार
स्ट्रीट वेंडर्स के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के मामले में भी प्रदेश को बड़ी उपलब्धि हासिल हुई। अबतक 18.14 लाख स्ट्रीट वेंडर्स को प्रदेश के अंदर स्वनिधि योजना का लाभ दिलाया गया। अटल पेंशन स्कीम भी प्रदेश में काफी कारगर साबित हुई, इससे 75 लाख लोगों को जोड़ने में योगी सरकार को सफलता मिली। वहीं प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से यूपी की 54.44 लाख माताओं को जोड़ा गया। यही नहीं स्वामित्व योजना के अंतर्गत देश में जहां अबतक 1.25 करोड़ लाभार्थियों की घरौनियां तैयार हुईं, वहीं अकेले यूपी में अबतक 75.78 लाख घरौनियां तैयार हो चुकी हैं।

केंद्र की इन योजनाओं में यूपी अव्वल
केंद्र सरकार की योजनाओं को मिशन मोड में धरातल पर उतारने में जुटी योगी सरकार के प्रयासों का ही परिणाम है कि तमाम महत्वपूर्ण जनकल्याणकारी योजनाओं में यूपी पूरे देश में प्रथम स्थान पर है। इनमें प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री जनधन योजना, पीएम स्वनिधि योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, प्रधानमंत्री अटल पेंशन योजना शामिल हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और डीबीटी परफॉर्मेंस रैंकिंग में यूपी को देश में दूसरा स्थान प्राप्त है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here